मंगल ग्रह पर भेटल पाइन, ओतयके जमीनके अन्दर अछि तीनटा झील

0
645

अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा (NASA) के साइंटिस्ट मंगल दिन ग्रह पर पाइनके स्रोत ताकि लेने अछि. वैज्ञानिक सभके मंगल दिन जमीनके अंदर अर्थात निचा तीनटा झील भेटल. अहाँके बता दी जे की दु वर्ष पहिले सेहो मंग्रल ग्रहके दक्षिणी ध्रुव पर एकटा बहुत बड़का नमकीन पाइन वला झीलके पता चलल छल. अहि झील वला बर्फके निचामे दबल अछि. अर्थात भविष्यमे मंगल ग्रह पर जाकय बसल जा सकैत अछि जँ ओहि पाइनके उपयोग कयल जा सकल तँ.

यूरोपियन स्पेस एजेंसी (ESA) के स्पेसक्राफ्ट मार्स एक्सप्रेस 2018 मे जाहि ठाम बर्फके निचामे नुनगर पाइनके झील तकने छल, ओहि झीलके पुख्ता करवाक लेल 2012 सँ 2015 तक मार्स एक्सप्रेस सैटेलाइट 29 बेर ओहि इलाके सँ गेल छल आओर फोटो सभ लेने छल, ओहि इलाकाके लग ओकरा अहि बेर आओर तीन टा झील देखाइ परलइ. अहि तीन झीलके लेल स्पेसक्राफ्टके 2012 सँ 2019 के बीच 134 बेर ऑब्जरवेशन करय पड़ल अछि.

मंगल एकटा सूखल आओर बंजर ग्रह नहि अछि जेना की पहिले सोचल जायत छल. किछ निश्चित परिस्थिति सभेमे पाइन तरल अवस्थामे मंगल पर भेटल अछि. वैज्ञानिक बहुत दिन सँ इ मानैत आबि रहल छल जे की लाल ग्रह पर कहिओ पानि खूब मात्रामे बहैत छल. तीन अरब साल पहिले जलवायुमे आयल पैघ बदलाव सभके कारण मंगलके सभटा रूप बदैल गेल.

ऑस्ट्रेलियाके स्विनबर्न विश्वविद्यालयमे सहायक प्रोफेसर एलन डफी  अहिके शानदार उपलब्धि करार दैत कहलनि की अहि सँ जीवनके अनुकूल परिस्थिति सभके संभावना सभ खुजैत अछि. अहि सँ पहिले अमेरिकाक अंतरिक्ष एजेंसी नासा घोषणा कयने छल की मंगल पर 2012मे उतरल खोजी रोबोट क्यूरियोसिटीके चट्टान सभमे तीन अरब साल पुरान कार्बनिक अणु भेटल अछि. अहि बातक ओर संकेत करैत अछि की ओहि जमानामे अहि ग्रह पर जीवन रहल होयत.