Rs 20 Lakh Crore Package: TDS रेट मे 25% कटौती; Income Tax, PF लेल बड़का घोषणा

0
94

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण TDC और TCS कें ल’ बड़का ऐलान केलनि अछि। ओ कहलनि जे 31 मार्च, 2020 तक नॉन-सैलरीड पेमेंट कें छोड़ि बाकी सब तरहक पेमेंट पर TDS/TCS रेट मे 25 फीसद केर कटौती केर फैसला कएल गेल अछि। सरकारक एहि प्रयास सं लोकक हाथ मे खर्च करबा लेल अधिक टाका बचत। वित्त मंत्री एकर संग आयकर रिटर्न भरबाक समय-सीमा कें सेहो बढ़एबाक घोषणा केलनि अछि। ओ कहलनि जे सरकार सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग (MSME) कें बिना कोनो गारंटी कें तीन लाख करोड़ रुपयाक लोन देल जाएत।

सीतारमण कहलनि जे ई कॉलेट्रल फ्री लोन गारंटी योजना छै। एमएसएमई कें लेल 6 बिन्दु केर घोषणा कएल गेल अछि। एकरा अलावा किछु कंपनी कें EPF मे देल गेल राहत कें अगिला तीन मास आओर जारी रखबाक घोषणा कएल गेल अछि। एकर अलावा निजी कंपनी कें अगिला तीन महीना तक पीएफ फंड मे 12 फीसद केर बजाय 10 फीसद केर अंशदान करबाक सहूलियत देल गेल अछि।


वित्त मंत्री आओर की सब कहलनि? 

– MSME सेक्टर कें लेल बिना गारंटी कें 3 लाख करोड़ रुपयाक लोन केर सुविधा।
– कॉलेटरल फ्री लोन सं 45 लाख MSME केर होयत फायदा।
– MSME कें 4 साल लेल देल जायत लोन।
– 25 करोड़ तक लोन सं 100 करोड़ टर्नओवर वला कें होयत फायदा।
– पहिल 12 महीना नहि चुकबय पड़त मूलधन।
– MSMEs कें लेल 50 हजार करोड़ केर फंड ऑफ़ फंड्स बनत।
– MSMEs केर परिभाषा बदलत,  MSME कें ई-मार्केट सं जोड़ल जायत।
– Discom मे 90 हजार करोड़ केर नकदी देल जायत।
– 200 करोड़ सं कम बला मे ग्लोबल टेंडर नै होयत।
– ईपीएफ मे 2500 करोड़ रुपया केर निवेश होयत।
– EPF लेल जून, जुलाई और अगस्त मे सेहो सरकार द्वारा राहत।
– ईपीएफ मे सरकारी मदद सं 72 लाख कर्मचारी कें फायदा।
– एनबीएफसी, हाउसिंग फाइनेंस कंपनी आ MFIs केर लेल 30,000 रुपयाक नकदी सुविधा।
– TDS रेट मे 25 फीसद केर कटौती।

ज्ञात हो जे वर्ष 2019-2020 कें लेल आयकर रिटर्न केर देय तिथि आब 31 जुलाई आ 31 अक्टूबर सं बढ़ा क’ 30 नवंबर 2020 तक क’ देल गेल अछि।