बैंकॉक: भारत RCEP समझौतामे (Regional Comprehensive Economic Partnership) शामिल नहि होबाक निर्णय लेलक अछि। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भारतक समस्या सभक संतोषजनक निपटारा नहि होबाक चलते ओ अपन पक्ष कय लय कय मजगूत बनल छलाह, ओ पहिले कहि कय रखने छलाह जे भारतक केंद्रीय हितसभ सँ कोनो तरहक समझौता नहि कयल जायत। अहि समझौतामे शामिल होमय सँ मना करैत कहलथि जे नहि तँ इ गांधी जीक तावीज छै नहिये हुनकर अंतर्मन अहिके स्वकृति दय रहल छनि तै भारत अहि समझौतामे शामिल नहि होयत।

  • आयात वृद्धिक विरुद्ध अपर्याप्त सुरक्षा
  • चीनक संग मतभेद
  • 2014 के बेस ईयर मानल गेनाइ
केन्द्रीय मंत्री जीतेन्द्र सिंह जीक ट्विट

1 टा कमेंट

  1. ओ प्रेसर मे निर्णय लेलाह ये, खास के गुजरातक कपड़ा व्यापारी के विरोधक बाद। जौ एतबे संवेदनशील छलाह त समझौता कियैक करय लेल जा रहल छलाह।आरएसएस केर किशान मोर्चा सेहो बहुत विरोध केलकै तखन पाछु हटलाह

एकटा जबाब दिय

कृपया अहाँ कमेंट करू
कृपया एतय अहाँ अपन नाम लिखु