कोरोना महामारी कें अहि नाजुक मोड़ पर राजनीति आ चुनाव सेहो बदलल जा रहल अछि. एकर सबसा पहिल असर बिहार मे देखय लेल मिल सकेत अछि, जतय अहि साल कें अक्टूबर आ नवंबर मे विधानसभा चुनाव प्रस्तावित अछि.

कही दी जे, कोरोना वायरस संकट सं पूरा देश जूझ रहल अछि. एना मे आबय वला दिन मे राज्य भरि मे चुनाव सेहो होयत. चुनाव आयोग कोविड-19 मरीज कें लेल वोटिंग प्रक्रिया मे बदलाव केलनि अछि. आब कोविड मरीज आ 65 वर्ष सं अधिक उम्र कें लोक पोस्टल बैलेट पेपर कें माध्यम सं वोट द’ सकता.

कोरोना महामारी क’ देखैत केंद्र सरकार एकटा प्रस्ताव क’ मंजूरी देने अछि, जाहिमे कोविड मरीज जे कोनो संस्थान या होम क्वारनटीन मे रह रहल अछि या जिनकर उम्र 65 वर्ष सं ज्यादा अछि, ओ पोस्टल बैलेट पेपर कें माध्यम सं वोटिंग क’ सकेत अछि. आयोग कें ई निर्देश बिहार चुनाव मे सेहो देखबाक मिलत.

चुनाव आयोग केर तैयारी
कही दी, चुनाव आयोग केर सिफारिश पर 22 अक्टूबर 2019 क’ 80 वर्ष सं अधिक आयु कें वरिष्ठ नागरिक आ विकलांग व्यक्तिक लेल पोस्टल बैलेट सुविधा क’ सक्षम करय वला कानूनी संशोधन, हुनका हुनक घर पर वोटिंगक विकल्प देबाक लेल लाओल गेल छल. अहि तर्ज पर आयोग आब कानून कें दायरा क’ बढ़ाबाक लेल कानून आ न्याय मंत्रालय सं सिफारिश केने अछि जे 65 वर्ष सं अधिक आयु कें सभ’ मतदाता कें संगे सभ’ कोविड -19 संक्रमित मतदाता क’ पोस्टल बैलेट सं वोट करबाक सुविधा देल जायत. अहिसँ पोलिंग स्टेशन पर लगय वला भीड़ कम होयत आ कोरोना कें खतरा सेहो कम होयत.