कोरोना संकट काल कें दौरान प्रवासी मजदूरक मुद्दा सबसा अहम रहल अछि. अहि बीच प्रवासी मजदूर कें मसला पर बिहार कें मुख्यमंत्री नीतीश कुमार कें बयान आयल अछि. ओ दूसर राज्य मे काज करय वला लोक क’ प्रवासी कहबा पर आपत्ति जतोलनि.

सीएम कहलनि जे देश एकटा अछि आ कोई कतो जको काम क’ सकेत अछि. ओ आरोप लगोलनि जे जता ई श्रमिक काम करैत छला, ओतय हिनकर ध्यान नै राखल गेल. हम एहन व्यवस्था को रहल छी जे रोजगार कें लेल ककोरो बिहार सं नै जाय पड़त. कोई अपन मर्जी सं जाय चाहता त’ जा सकेत छथि.

कहि दि जे बड़ तादाद मे प्रदेश लौटल श्रमिक क’ रोजगार देबाक लेल नीतीश सरकार सेहो सक्रिय भ’ गेल छथि . प्रदेश कें उद्योग मंत्री श्याम रजक देशक 24टा उद्योगपति कें पत्र लिख को बिहार मे निवेश करैत, अपन यूनिट्स लगबाक अपील केलनि. उद्योगपति क’ लिखल अपन पत्र मे श्याम रजक कहलनि जे बिहार मे निवेश केर असीम संभावना अछि.

रोजगार पैदा करबाक चुनौती, नीतीश कें मंत्री केलनि 24टा उद्योगपति सं निवेशक अपील

श्याम रजक उद्योगपति सबके भरोसा देलनि अछि जे निवेशक स्थिति मे सरकार हुनकर पूरा सहयोग करता. हुनका कोनो तरहक समस्या कें सामना नै करय देल जायत.महामारी आ लॉकडाउन कें बीच अखन धरि लगभग 20 लाख प्रवासी मजदूर वापस बिहार अबि चूकल छथि. क्वारनटीन सेंटर पर रहि रहल लगभग 7 लाख प्रवासी मजदूर कें स्किल मैपिंग सेहो सरकारक ओर सं कराओल जा चुकल अछि.