वर्चुअल रैली सं बदल जायत चुनावी बिहारक राजनीतिक तस्वीर, सोशल मीडिया पर नेता बढ़ा रहला फॉलोवर्स

कोरोना कें संक्रमण क’ देखैत बिहार विधानसभा चुनाव अहि बेर बहुत मायने मे नव इबारत लिखत। वर्चुअल रैली बिहार कें लेल नबका अछि। बिहार मे पहिल बेर एकर व्यापक प्रयोग होबाक उम्मीद अछि। अर्थात अहि बेर पारंपरिक रैली कम भ’ जायत।

कोरोना कें संक्रमण क’ देखैत बिहार विधानसभा चुनाव अहि बेर बहुत मायने मे नव इबारत लिखत। वर्चुअल रैली बिहार कें लेल नबका अछि। बिहार मे पहिल बेर एकर व्यापक प्रयोग होबाक उम्मीद अछि। अर्थात अहि बेर पारंपरिक रैली कम भ’ जायत। चुनावी साल मे गांधी मैदान मे सभ’ दल केर अलग-अलग कम सं कम पांच बड़का चुनावी रैली होयत अछि। परन्तु अहि बेर शायद नै होयत। पार्टि सब कें खर्च घटत। बांस-बल्ली, टेंट, गाड़ी, लाउडस्पीकर, पर्चे, बैनर, पोस्टर कें खर्चे कम भ’ जायत। जाहि स्थान पर अखबार मे विज्ञापन बढ़त।

बढ़त ऑनलाइन विज्ञापन

ऑनलाइन विज्ञापन बढ़त। सोशल मीडिया सेहो व्यापक संभावना देख रहल अछि। इंटरनेट सेवा प्रदाता कंपनिय सब कें बल्ले-बल्ले होयत। भीड़ जुटाबय वला नेता आब मोबाइल नंबर जुटाबे वला नेता मे तब्दील भ’ जायत। फिलहाल बड़का दल कें दिग्गज सब वर्चुअल चुनावी रैली केर बिसात बिछाबय मे ताकत झोंक देलनि अछि। सोशल मीडिया केर भूमिका सेहो अहि बेर कें विधानसभा चुनाव मे नव सिरा सं तय होयत। एकरा देखैत विभिन्न दल कें शीर्ष नेता सब फॉलोवर्स बढ़ाबय मे ताकत लगादेने देने छथ।

गांधी मैदान मे नै जुटत भीड़

सियासी धुरंधर सब कें बीच चर्चा अछि जे अहि बेर कें चुनाव मे प्रदेश, प्रमंडल, जिला आ विधानसभा क्षेत्र स्तर पर होबय वला रैली क’ सेहो स्वरूप बदल जायत। दिल्ली आ पटना सं बैस क’ गांव-गांव केर सभा सब क’ संबोधित करय कें लेल नेता सब इवेंट कंपनियक संग कार्यकता कें नबका टीम गढ़बा मे ताकत लगा देने अछि। पटना कें गांधी मैदान मे दू सं पांच लाख कें भीड़ जुटाबाक जिम्मेदारी लेबय वला नेताक कंधा पर अहि बेर नबका जिम्मेदारी होयत।

प्लाज्मा टीवी आ एलइडी स्क्रीन

चुनाव प्रबंधन केर कमान संभालय वला पार्टी कार्यकर्ता कें सेहो नव भूमिका तय होयत। इवेंट कंपनिय अखन सं प्लाज्मा टीवी, एलइडी स्क्रीन आ मेगा स्क्रीन सं संबंधित अपन क्षमता कें प्रचार-प्रसार मे लागल अछि, ओतय सियासी दल बड़का -बड़का डिजीटल स्क्रीन रखय वला कंपनिय केर तलाश अखने सं शुरू क’ देने अछि।