कोरोना महामारी कें बढ़ैत कहर सं बिहार सहित पूरा देश परेशान अछि। आब ई महामारीक डर कें बीच अंधविश्वाास सेहो घुसल अछि। अहि अंधविश्वाेस मे बिहार कें गोपालगंज जिलाक हथुआ स्थित एकटा गांव मे महिला सब कोरोना मायाक पूजा-अर्चना करय लागलि । जखन, डॉक्टटर एहन अंधविश्वा स कें घातक बता रहल छथ।

गोपालगंज कें हथुआ इलाके कें मछागर लछीराम गांव कें पश्चिम टिकुली पोखरा कें समीप सोमदिन बहुत संख्या मे महिला सब जमा भ गेलि। हाथ मे पूजन सामग्री लेने ई महिला सब भक्ति गीत गाबय लागलि। ओ पूजा कें दौरान नाराज ‘कोरोना माई’ केर मनबैत हुनका इलाका सं चइल जेबाक गुहार लगा रहल छलि।

फिजिकल डिस्टेंजसिंग हवा, संक्रमण कें सेहो नै रहल परवाह

देखत-देखत ओतय भारी भीड़ जमा भ’ गेले। ओहि दौरान महिला सब फिजिकल डिस्टेंजसिंग (Physical Distancing) कें प्रावधान आ कोरोना संक्रमण (CoronaVirus Infection) कें ल’ बेपरवाह भ’ गेलि। पुछबा पर कहलनि, ‘माई सब ठीक क’ देति।’

सोशल मीडिया कें माध्यम सं मिलल अंधविश्वामस क’ हवा

सवाल ई अछि जे आखिर महिला सब कें ई आइडिया केना एलानि? एकर पिछा सोशल मीडिया पर फैलल अफवाह रहल। महिला सब बतोअलनि जे एकटा वायरल वीडियो (Viral Video) मैसेज सं हुनका ई जानकारी मिलल जे करुणा देवी (स्थानीय स्तार पर पूजा करय जाय वालि एकट देवी) कें नाराज होबाक कारण कोरोना कें प्रकोप फैलल अछि। अहि लेल करुणा देवी कें रूप मे कोरोना माई केर पूजा क’ रहल छथि।

गुस्सा कम करबाक लेल पूजा, चढ़ाओल गेल लड्डू आ लौंग

महिला सब बतओलनि जे कोरोना माई कें प्रसन्न करबा लेल ओ लड्डू, लौंग आर किछू पूजन सामग्री सं हुनकर पूजा क’ रहलि। हुनका सब कें विश्वास छलनि जे एकरा सं कोरोना माई केर गुस्सा कम भ’ जायत।

अंधविश्वा सं व्यक्ति कें संग समाज कें लेल सेहो घातक

महिला सब ई पूजा कें समर्थन मे आस्थात कें तर्क द’ रहलि, परन्तु शिक्षित वर्ग अंधविश्वांस माइन रहल अछि। गोपालगंज केर गृहिणी संजना सिंह कहलनि जे पूजा अपन जगह, पर कोरोना जेहन संक्रमणक महामारी केर अंधविश्वाकसक कारण भगबैत संबंधित व्यजक्ति नै, समाजक लेल सेहो घातक अछि। छपरा केर डॉ. अंजू वर्मा कहैत छथि जे लोक कें ई समझो परत जे कोरोनाक महामारी कोनो देवीक प्रकोप नै, बल्कि वायरस कें कारण फैलल अछि।

फिजिकल डिस्टेंजसिंग आ साफ-सफाई कें राखि ध्याकन

गोपालगंज कें चिकित्सकक डॉ. संदीप कुमार कहैत छथ जे अखन महामारी फैलल अछि, ओकर कारण ‘कोविड 19′ (COVID-19) वायरस अछि। अहि महामारी सं बचाव नै होयत। फिजिकल डिस्टें सिंग कें पालन क’ आ साफ-सफाई रखनाइये ई संक्रमण सं बचल जा सकेत अछि। फिलहाल एकर इलाज आ वैक्सीान उपलब्धव नै अछि।